in

जानिए भगवान शिव के विभिन्न नामों के यह रहस्य आपको अचरज में डाल देंगे, पढ़ें पौराणिक राज !!

भगवान शिव के नामों के यह रहस्य आपको अचरज में डाल देंगे।

भगवान शिव को अनेकों नाम से जाना जाता है।

‘शिव’ शब्द का अर्थ है ‘कल्याण’। शिव ही शंकर है। ‘शं’ का भी अर्थ है ‘कल्याण’; कर का अर्थ है–करने वाला, अर्थात् कल्याण करने वाला। पुराणों में भगवान शिव के अनेक नाम प्राप्त होते हैं। भगवान शिव के नामों का इतिहास उनकी अनेक क्रीड़ाओं, रूप, गुण, धाम, वाहन, आयुध आदि पर आधारित हैं।

इनमें पांच नाम विशेष रूप से प्रमुख हैं– ईशान, अघोर, तत्पुरुष, वामदेव और सद्योजात। समस्त जगत के स्वामी होने के कारण शिव ‘ईशान’ तथा निन्दित कर्म करने वालों को शुद्ध करने के कारण ‘अघोर’ कहलाते हैं। अपनी आत्मा में स्थिति-लाभ करने से वे ‘तत्पुरुष’ और विकारों को नष्ट करने के कारण ’वामदेव’ तथा बालकों के सदृश्य परम स्वच्छ और निर्विकार होने के कारण ‘सद्योजात’ कहलाते हैं।

सोम-सूर्य-अग्निरूप तीन नेत्र होने से वे ‘त्र्यम्बकेश्वर’ कहलाए। ब्रह्मा से लेकर स्थावरपर्यन्त सभी जीव पशु माने गए हैं, अत: उनको अज्ञान से बचाने के कारण वे ‘पशुपति’ कहलाते हैं। शिवजी के उपासकों में उनका ‘महाभिषक्’ नाम अत्यन्त प्रिय है। देवों के देव होने के कारण उनकी ‘महादेव’ नाम से निरन्तर उपासना होती रही है। ‘सहस्त्राक्ष’ नाम उनकी प्रभुता का द्योतक है। सभी विद्याओं एवं भूतों के ईश्वर हैं, अत: ‘महेश्वर’ कहलाते हैं।

भगवान शिव के नामों के यह रहस्य आपको अचरज में डाल देंगे।

प्रणवस्वरूप चन्द्रशेखर शिव को ‘पुष्टिवर्धन’ भी कहा जाता है। यह नाम पुष्टि, पोषण और उनकी अनुग्रह शक्ति का द्योतक है। भगवान शिव ने हरिचरणामृतरूपा गंगा को जटाजूट में बांध लिया, अत: वे ‘गंगाधर’ कहलाए। कालकूट विष को अपनी योगशक्ति से आकृष्ट कर कण्ठ में धारण करके ‘नीलकण्ठ’ कहलाए। उसी समय उस विष की शान्ति के लिए देवताओं के अनुरोध पर चन्द्रमा को अपने ललाट पर धारणकर लिया और ‘चन्द्रशेखर, शशिशेखर’ कहलाए।

भगवान शिव के मस्तक पर चन्द्रकला और गंगा–ये दोनों फायर-ब्रिगेड हैं जोकि उनके तीसरे नेत्र अग्नि और कण्ठ में कालकूट विष–इन दोनों को शान्त करने के लिए शीतल-तत्त्व हैं। कण्ठ में कालकूट विष और गले में शेषनाग को धारण करने से उनकी ‘मृत्युज्जयता’ स्पष्ट होती है। तामस से तामस असुर, दैत्य, यक्ष, भूत, प्रेत, पिशाच, बेताल, डाकिनी, शाकिनी, सर्प, सिंह–सभी जिसे पूजें, वही शिव ‘परमेश्वर’ हैं।

भगवान शिव के विभिन्न नाम । वे ‘नीलग्रीवी’, ‘नीलशिखण्डी’, ‘कृतिवासा’, ‘गिरित्र’, ‘गिरिचर’, ‘गिरिशय’, ‘क्षेत्रपति’ और ‘वणिक्’ आदि अनेक नामों से पूजे जाते हैं। शिव को उनके गुणों के कारण ‘मृत्युंजय’, ‘त्रिनेत्र, ‘पंचवक्त्र’, ‘खण्डपरशु’, ‘आदिनाथ’, ‘पिनाकधारी’, ‘उमापति’, ‘शम्भु’ और ‘भूतेश’ भी कहा गया है। वे ‘प्रमथाधिप’, ‘शूली’, ‘ईश्वर’, ‘शंकर’, ‘मृड’, ‘श्रीकण्ठ’, ‘शितिकण्ठ’, ‘विरुपाक्ष’, ‘धूर्जटि’, ‘नीललोहित’, ‘स्मरहर’, ‘व्योमकेश’, ‘स्थाणु’, ‘त्रिपुरान्तक’, ‘भावुक’, ‘भाविक’, ‘भव्य’, ‘कुशलक्षेम’ आदि नामों से भी अभिहित किए जाते हैं।

पुराणों में भगवान शिव को विद्या का प्रधान देवता कहा गया है इसलिए उन्हें ‘विद्यातीर्थ’ और ‘सर्वज्ञ’ भी कहा जाता है।

भगवान शिव अठारह नामों से पूजे जाते हैं जिनमें शिव, शम्भु, नीलकंठ, महेश्वर, नटराज आदि प्रमुख हैं। भगवान शिव अपने मस्तक पर आकाश गंगा को धारण करते हैं तथा उनके भाल पर चंद्रमा हैं। उनके पांच मुख माने जाते हैं जिनमें प्रत्येक मुख में तीन नेत्र हैं। भगवान शिव दस भुजाओं वाले त्रिशूलधारी हैं।

पुराणों में भगवान शिव के जिन अट्ठारह नामों का उल्लेख किया गया है उनमें पहला है- शिव। शिव शंकर अपने भक्तों के पापों को नष्ट करते हैं। पशुपति उनका दूसरा नाम है। ज्ञान शून्य अवस्था में सभी पशु माने गये हैं। शिव इसलिए पशुपति हैं क्योंकि वह सबको ज्ञान देने वाले हैं। शिव को मृत्युंजय भी कहा जाता है। मृत्यु से कोई नहीं जीत सकता। पर चूंकि शिव अजर और अमर हैं इसलिए उन्हें मृत्यंजय भी कहा जाता है। त्रिनेत्र रूप में भी उनकी पूजा की जाती है। कहा जाता है कि एक बार भगवान शिव के दोनों नेत्र पार्वती जी ने मूंद लिए इससे पूरे विश्व में अंधकार छा गया। सब लोग जब व्याकुल हो उठे तो शिवजी के ललाट पर तीसरा नेत्र उत्पन्न हुआ। इससे तुरंत ही सारा अंधकार दूर हो गया।

शिवजी को पंचवक्त्र भी कहा जाता है। इस बारे में कहा जाता है कि एक बार भगवान विष्णु ने कई मनोहर रूप धारण किये। इससे अनेक देवताओं को उनके दर्शनों का लाभ मिला। इसके बाद शिवजी के भी पांच मुख हो गये और हर मुख पर तीन-तीन नेत्र उत्पन्न हो गये। कृत्तिवासा के रूप में भी भगवान शिव को जाना जाता है। जो गज चर्म धारण करे उसे कृत्तिवासा कहा जाता है। महिषासुर के पुत्र गजासुर के कहने पर शिव जी ने उसका चर्म धारण किया था।

शितिकंठ के रूप में भी भगवान शिव की पूजा की जाती है। जिसका कंठ नीला हो उसे शितिकंठ कहा जाता है। खंडपरशु भी भगवान शिव का एक नाम है। कहा जाता है कि जिस समय दक्ष यज्ञ का ध्वंस करने के लिए भगवान शिव ने त्रिशूल को छोड़ा था तो वह बदरिकाश्रम में तपलीन नारायण जी को बेध गया। तब नर ने एक तिनके को अभिमंत्रित किया और उसे शिवजी पर चलाया। वह परशु के आकार में था। शिवजी ने उसके टुकड़े-टुकड़े कर डाले इसलिए उन्हें यह नाम मिला। इसके अलावा शिवजी को प्रमथाधिव, गंगाधर, महेश्वर, रुद्र, विष्णु, पितामह, संसार वैद्य, सर्वज्ञ, परमात्मा और कपाली के नामों से भी पूजा जाता है।

इनके अलावा भारत भर में भगवान शिव के बारह ज्योर्तिलिंग हैं जिनकी विशेष रूप से पूजा की जाती है। इनमें सोमनाथ, मिल्लकाजुZन, महाकाल या महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर और अमलेश्वर, केदारनाथ, भीमशंकर, विश्वनाथ, त्र्यम्बेकश्वर, वैद्यनाथ धाम, नागेश, रामेश्वरम और घुश्मेश्वर आदि हैं। इन ज्योर्तिलिंगों की भक्त जन विशेष पूजा अर्चना करते हैं और शिवरात्रि पर तो इन ज्योतिर्लिंगों पर भक्तों का तांता लगा रहता है।

ब्रम्हा और विष्णु भगवान शिव में से ही उत्पन्न हुए हैं। एक बार भगवान शिव ने अपने वाम भाग के दसवें अंग पर अमृत मल दिया। वहां से एक पुरुष प्रकट हुआ। शिव ने उनसे कहा कि आप व्यापक हैं इसलिए विष्णु कहलाए जाओगे। तपस्या के बाद विष्णु जी के शरीर में असंख्य जलधाराणं फूटने लगीं। देखते ही देखते सब ओर जल ही जल हो गया। विष्णु जी ने उसी जल में शमन किया।

बाद में उनकी नाभि से एक कमल उत्पन्न हुआ। तब भगवान शिव ने अपने दाएं अंग से ब्रह्माजी को उत्पन्न किया। उन्होंने ब्रह्माजी को नारायण के नाभि कमल में डाल दिया। तभी हैरत से विष्णुजी और ब्रह्माजी एक दूसरे को देखने लगे। भगवान शिव ने कहा कि मैं, विष्णु तथा ब्रह्मा तीनों एक ही हैं। ब्रह्माजी सृष्टि को जन्म दें, विष्णुजी उसका पालन करें तथा मेरे अंश रुद्र उसके संहारक होंगे। इसी तरह सृष्टि का चक्र चलेगा। इसके बाद विष्णुजी और ब्रह्माजी ने भगवान शिव का पूजन किया। शिव ने कहा कि यही पहला शिवरात्रि पर्व है। यहीं से मेरे निराकार और साकार दोनों रूपों में पूजा मूर्ति तथा लिंग के स्वरूप में होगी।

भगवान शिव और पार्वती के विवाह का किस्सा भी बड़ा रोचक है। पार्वती ने इसके लिए कठोर तप किया। तप से प्रसन्न होकर आखिरकार भगवान शिव बूढ़े तपस्वी का रूप बनाकर पार्वती के पास गए। ब्राह्मण बनकर वह पार्वती के समक्ष जाकर शिवजी की बुराई करने लगे। पार्वती से यह सहन नहीं हुआ तो भगवान शिव ने उन्हें अपना असली रूप दिखाया और हंसने लगे और बोले- क्या तुम मेरी पत्नी बनोगी? पार्वती ने उन्हें प्रणाम किया और बोलीं- इस संबंध में आपको मेरे पिता से बात करनी होगी। शिवजी ने तुरंत ही नट रूप धारण किया और पार्वती के घर जा पहुंचे। वहां पहुंचकर वह नाचने लगे। जब पार्वती के माता-पिता ने उन्हें रत्न और आभूषण देने चाहे तो उन्होंने मना कर दिया और पार्वती को मांगने लगे। इस पर उनके माता-पिता का क्रोध बढ़ गया और उन्होंने सेवकों से नट को बाहर निकालने को कहा। पर कोई भी उनको स्पर्श भी नहीं कर सका। इसके बाद शिवजी ने उन दोनों को अनेक रूपों में दर्शन दिए। इसके बाद भगवान शिव और पार्वती जी का विवाह संपन्न हुआ।

 

Recommended Products from JiPanditJi

 

WooCommerce plugin is required to render the [adace_shop_the_post] shortcode.

Report

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

What do you think?

1715 points
Upvote Downvote

नक्षत्र और उनके स्वामी

ओम या ऊँ के रहस्य और चमत्कार