in

सोने, लोहे, चांदी या फिर तांबे किस पाये में हुआ है आपका जन्म, कौन सा माना गया है शुभ और अशुभ

ज्योतिषशास्त्र अनुसार 4 प्रकार के पाये होते हैं।

  1. सोने का पाया
  2. चांदी का पाया
  3. तांबे का पाया
  4. लोहे का पाया।

इन्हीं पायों में से किसी न किसी एक पाये में व्यक्ति का जन्म होता है।

कुंडली में लग्न से चंद्रमा जिस भाव में स्थित होता है उससे पाये का पता चलता है। मनुष्य की कुंडली में 12 भाव होते हैं जिन्हें चार भागों में बांटा गया है।

 

सोने का पाया

ये पाया तीसरे नंबर पर आता है। यदि जन्म कुंडली में चंद्रमा 1, 6 या 11भाव में स्थित हो तब जातक का जन्म सोने के पाये में माना जाता है। ये पाया अच्छा नहीं माना गया है। इस पाये में जन्म लेने वाले व्यक्ति को जीवन भर कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। रोगों की चपेट में ये लोग जल्दी आ जाते हैं। सोने का दान इनके लिए अच्छा माना गया है।

तांबे का पाया

यदि जन्म कुंडली में चंद्रमा 3, 7 या 10 भाव में स्थित हो तो जातक का पाया तांबे का माना जाता है। इस पाये को शुभ माना गया है। अत: इन पाये में जन्म लेने वाले लोग अपने पिता के लिए काफी भाग्यशाली होते हैं।

 

 

चांदी का पाया

जन्म कुंडली में चंद्रमा 2,5 या फिर 9 भाव में स्थित हो तो जातक का चांदी के पाये में जन्म माना जाता है। इस पाये में जन्म लेने वाले लोगों को काफी भाग्यशाली माना जाता है। ये लोग अपने साथ साथ अपने परिवार वालों के लिए भी लकी होते हैं। इन्हें कम संघर्षों में सफलता हासिल हो जाती है।

लोहे का पाया

यदि किसी जन्म कुंडली में चंद्रमा 4,8 या 12 वें भाव में स्थित हो तो जातक का पाया लोहे का माना जाता है। इस पाये को अच्छा नही माना गया है। ऐसे लोग जीवन भर संघर्ष करते रहते हैं। पिता के लिए ऐसे लोग भारी माने जाते हैं। लेकिन ज्योतिष अनुसार इस पाये के उपाय किये जा सकते हैं।

सोने, लोहे, चांदी या फिर तांबे किस धातु के पाये में हुआ है , आप के बच्चे का जन्म , क्या हैं उपाय अशुभ पाए के,

जानिये आचार्या ऐकता धष्माना जी से 

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें
Call or whatsapp us @ +91-8076121900

Recommended Products from JiPanditJi

 

WooCommerce plugin is required to render the [adace_shop_the_post] shortcode.

 

Report

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

What do you think?

142 points
Upvote Downvote

Written by Aacharya Ektaa Dhasmana

Acharya Ektaa Dhasmana is award winning renowned Astrologer,numerologist nadi consultant & Astro Healer.

She has coveted Upadhi of jyotish punj.
Gives accurate & reliable horoscope reading with simple remedies.
She has experience of 10 years & 500+ kundali analysis.
she is expert in child birth,marriage, divorce, transfers, profession, Visa,loan,house purchase ,court case and more.
500+ satisfied clints in India, Singapore, Australia, UK,Dubai.
Taking numerology and astrology classes and workshops.
3 years in varanasi,1 year ujjain for adhyatma and astrology practice.

महामृत्युंजय मंत्र की उत्पत्ति की कथा

महामृत्युंजय मंत्र के आगे बेबस क्वांटम मशीन